खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

अहमदाबाद : व्‍यापारी ने परिवार की हत्‍या कर खुद को लगाई फांसी, सुसाइड नोट में काली शक्तियों को बताया वजह

अहमदाबाद : व्‍यापारी ने परिवार की हत्‍या कर खुद को लगाई फांसी, सुसाइड नोट में काली शक्तियों को बताया वजह

Post By : Dastak Admin on 12-Sep-2018 22:09:33

business man suicide after families muder

अहमदाबाद. एक व्यापारी ने कथित तौर पर अपनी पत्नी और बेटी की हत्या कर खुदकुशी कर ली। पुलिस ने बताया कि कुणाल त्रिवेदी (50) नाम के इस शख्स ने तीन पेज का सुसाइड नोट लिखा है। इसमें कुणाल ने कत्ल और खुदकुशी की वजह काली ताकतों को बताया। 

शराब का आदी था व्यापारी : पुलिस अफसर ने बताया- कुणाल ने अपनी मां जयश्री बेन (75) को भी जहर दिया था। वह बेहोशी की हालत में मिली थीं। उनकी हालत नाजुक है। पत्नी कविता (45) और बेटी शिरीन (16) के शव बेडरूम में मिले। कुणाल का शव छत से लटक रहा था। सुसाइड नोट में कुणाल ने लिखा- मैं कभी अपनी मर्जी से शराब नहीं पीता। काली ताकतेें मुझे ऐसा करने पर मजबूर करती हैं। मैंने अपने देवता के पास भी शरण मांगी, लेकिन उन्होंने भी मदद नहीं की।

 कुणाल ने लिखा- मैं कर्जदार नहीं हूं : कुणाल ने नोट में लिखा- मां मैंने तुमसे कई बार कहा कि कोई काली ताकत है, जिससे मैं परेशान हूं।  तुम मेरी बात पहले मान लेतीं, तो आज यह हालत न होती। मेरी डिक्शनरी में आत्महत्या शब्द है ही नहीं। मैंने कभी शौक से शराब नहीं पी। मेरी कमजोरी का काली शक्तियों ने भरपूर उपयोग किया। मैंने धंधे में एमपी वाले को 14 लाख 55 हजार रुपए दिए हैं। मैं कर्जदार नहीं हूं। मैंने धंधे में माल के लिए 6 लाख रुपए दिए हैं। कोई भी तुम लोगों से हजार रुपए भी नहीं मांग सकता। मैं कई बार गिरा और खड़ा हुआ, पर कभी हारा नहीं। अब परेशानियां दिनों-दिन बढ़ती जा रही हैं। 

 'काली शक्ति आसानी से पीछा नहीं छोड़ती' : आखिर में कुणाल ने लिखा- जिज्ञेश भाई, अब यह आपकी जवाबदारी है, शेर अलविदा कह रहा है। जिज्ञेश कुमार, तुषार भाई आप सबने कुणाल की यह स्थिति देखी है। परंतु कोई कुछ नहीं कर पाया। मां की तरह पत्नी कविता जितना कर सकती थी, उतना किया भी, उसे विश्वास था कि कुलदेवी आकर उसे बचा लेगी, पर काली शक्ति इतनी आसानी से पीछा नहीं छोड़ती।

Tags: business man suicide after families muder

Post your comment
Name
Email
Comment
 

अन्य राज्य

विविध