खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

हर तबके के बच्‍चा बने काबिल, इसलिए बनाया ऐसा लर्निंग सॉफ्टवेयर

हर तबके के बच्‍चा बने काबिल, इसलिए बनाया ऐसा लर्निंग सॉफ्टवेयर

Post By : Dastak Admin on 12-Sep-2018 21:57:14

learning software programmer, jyoti garg

 
 शिक्षा पर सभी का समान अधिकार होना चाहिए। हर तबके के बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा मिलेगी तभी वह भविष्य में वे किसी दूसरे स्कूल के छात्रों के बराबर खुद को पाएंगे, इसीलिए हम मुंबई बेस्ड एक कंपनी को सपोर्ट करते हैं। यह मानना है इंदौर की उद्यमी ज्‍योति गर्ग का, वह अपनी कंपनी के जरिए ऐसी संस्था की मदद देती है। ज्‍योति गर्ग की कंपनी यह अनूठी पहल कर रही है, वह पिछड़े स्कूलों को तकनीकी रूप से सक्षम बनाती है। ज्योति गर्ग कहती हैं कि उनकी कंपनी ऐसे स्कूलों के लिए लर्निंग बेस्ड सॉफ्टवेयर तैयार करती है जहां पर संसाधनों की कमी है।

इसमें सॉफ्टवेयर के जरिए बच्चों को किताबी दुनिया से बाहर निकाल कर नए तरीकों से शिक्षित करने की व्यवस्था करते हैं। हम कभी इस बात में भी दखल नहीं देते हैं कि कंपनी उस सिस्टम को किसी स्कूल विशेष में लगाए। हमने सॉफ्टवेयर और उसके काम करने का तरीका देखा है। इस कारण उनके काम में कोई दखलअंदाजी नहीं करते हैं , सॉफ्टवेयर के निर्माण में आने वाले खर्च को वहन करते हैं। कंपनी ने मध्य प्रदेश के उज्जैन, होशंगाबाद समेत कई जिलों के स्कूलों को इस सॉफ्टवेयर के जरिए हाइटेक बनाया है। 

शीर्ष 100 उद्यमियों में शामिल 
गार्लिको इंडस्ट्रीज लिमिटेड की डायरेक्टर ज्योति गर्ग साल 2014 में देश की सर्वश्रेष्ठ 100 एसएमई उद्यमियों में शामिल हो चुकी हैं। देशभर से करीब 62 हजार उद्यमियों के बीच उन्होंने अपनी यह जगह बनाई थी। इंडिया एसएमई फोरम ने ज्योति गर्ग का चुनाव देश के 100 एसएमई उद्यमियों में किया था।

Tags: learning software programmer, jyoti garg

Post your comment
Name
Email
Comment
 

सफलता की कहानी

विविध