खास खबरें आतंकवाद को समाप्त केवल भारत के नागरिक ही कर सकते हैं यौन उत्‍पीड़न मामले में सीजेआई की जांच के लिए बना आंतरिक पैनल श्रीलंका में हुआ एक और बम धमाका, टू व्‍हीलर में रखा था बम क्रिकेट फैन्‍स के लिए भगवान है सचिन तेंदुलकर, 24 तारीख से है खास रिश्‍ता मप्र की जनसभा में राहुल गांधी ने साधा मोदी-शाह पर जमकर निशाना, राफेल मुद्दे पर की घेरने की कोशिश पीएम मोदी भी पढ़ते है टिव्ंकल खन्‍ना के ट्वीट, अक्षय कुमार से पूछा ये सवाल... सेंसेक्स 75 अंक ऊपर, निफ्टी 11600 के आसपास तेंदुए की खाल के साथ शिकारी गिरफ्तार पत्‍नी अपूर्वा ने कबूला रोहित शेखर की हत्‍या का जुर्म, दोनों के बीच हुई थी हाथापाई असुरों के भक्‍तों की रक्षा के लिए श्री गणेश ने लिए थे आठ अवतार

मौत से ठन गई

मौत से ठन गई

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 08:40:40

अटल बिहारी वाजपेयी

 मौत से ठन गई

ठन गई

मौत से ठन गई.

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,

ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,

लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,

सामने वार कर फिर मुझे आज़मा

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,

शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,

दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,

न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,

आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,

नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,

देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई

मौत से ठन गई

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध