खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

मौत से ठन गई

मौत से ठन गई

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 08:40:40

अटल बिहारी वाजपेयी

 मौत से ठन गई

ठन गई

मौत से ठन गई.

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,

ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,

लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,

सामने वार कर फिर मुझे आज़मा

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,

शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,

दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,

न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,

आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,

नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,

देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई

मौत से ठन गई

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध