खास खबरें जैन कुल में जन्म लेने से ही जैनी नहीं बन सकते, जैनत्व जीवन में आना चाहिये स्‍वय के अध्‍यात्मिक जीवन पर पीएम मोदी ने किया बड़ा खुलासा-5 दिन जंगल में गुजारते थे महीने भर से चल रहे शटडाउन को बंद करने आज अमेरिकन सीनेट में होगी वोटिंग पाक कप्‍तान ने अफ्रीकी खिलाड़ी के खिलाफ की नस्‍लीय टिप्‍पणी पर मांगी माफी कांग्रेस का बना प्रधानमंत्री तो 'आप' करेगी समर्थन कंगना रनौत ने किया इंकार, नहीं मांगेगी करणी सेना से माफी सेंसेक्स में निचले स्तर से रिकवरी, निफ्टी 10830 के आसपास आगामी खेलो इंडिया यूथ गेम्स के मैडल में हो चार गुना बढ़ोतरी परिजनों मान रहे थे आत्‍महत्‍या, 4 साल की बेटी खोला पिता की हत्‍या का राज संकष्टी चतुर्थी पर इस विधि से करें श्री गणेश की पूजा, जानें कथा...

मौत से ठन गई

मौत से ठन गई

Post By : Dastak Admin on 17-Aug-2018 08:40:40

अटल बिहारी वाजपेयी

 मौत से ठन गई

ठन गई

मौत से ठन गई.

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,

ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,

लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,

सामने वार कर फिर मुझे आज़मा

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,

शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,

दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,

न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,

आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,

नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,

देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई

मौत से ठन गई

Tags: अटल बिहारी वाजपेयी

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध