खास खबरें जनसुनवाई में आये 120 आवेदन ऑनर किलिंग : गर्भवती पत्नि के सामने पति की निर्मम हत्‍या, आरोपियों ने दी थी एक करोड़ की सुपारी ईलाज के बहाने पत्नि को भेजा भारत, फिर वाट्सएप पर दे दिया तलाक एशिया कप में आज भारत-पाक का होगा आमना-सामना नीतीश-मोदी के खिलाफ राहुल-तेजस्‍वी करेंगे 'MY+BB' फॉर्मूले पर काम मैडम तुसाद में नजर आएंगी सनी लियोन निफ्टी 11300 के ऊपर, सेंसेक्स 100 अंक मजबूत पत्रकारों के लिये स्वास्थ्य एवं दुर्घटना समूह बीमा की राशि बढ़कर 4 लाख हुई दिल्‍ली : 7 साल की मासूम के साथ हुई हैवानियत, आरोपी ने प्राइवेट पार्ट में डाला प्‍लास्टिक का पाइप क्‍यों मनाई जाती है तेजा दशमी, कौन थे तेजाजी महाराज ?

जागियै गोपाल लाल, प्रगट भई अंसु-माल

जागियै गोपाल लाल, प्रगट भई अंसु-माल

Post By : Dastak Admin on 02-Sep-2018 18:27:35

सूरदास

 

कृष्‍ण, अर्जुन और ब्राहम्‍णजागियै गोपाल लाल, प्रगट भई अंसु-माल, मिट्यौ अंधकाल उठौ जननी-सुखदाई ।
मुकुलित भए कमल-जाल, कुमुद-बृंदबन बिहाल,मेटहु जंजाल, त्रिबिध ताप तन नसाई ॥ 
ठाढ़े सब सखा द्वार, कहत नंद के कुमार , टेरत हैं बार-बार, आइयै कन्हाई
गैयनि भइ बड़ी बार, भरि-भरि पय थननि भार , बछरा-गन करैं पुकार, तुम बिनु जदुराई ॥
तातैं यह अटक परी, दुहन-काल सौंह करी,आवहु उठि क्यौं न हरी, बोलत बल भाई ।
मुख तैं पट झटकि डारि, चंद -बदन दियौ उघारि, जसुमति बलिहारि वारि, लोचन-सुखदाई ॥
धेनु दुहन चले धाइ, रोहिनी लई बुलाइ, दोहनि मोहि दै मँगाइ, तबहीं लै आई बछरा दियौ थन लगाइ, 
दुहत बैठि कै कन्हाइ, हँसत नंदराइ, तहाँ मातु दोउ आई ॥
दोहनि कहुँ दूध-धार, सिखवत नँद बार-बार,यह छबि नहिं वार-पार, नंद घर बधाई ।
हलधर तब कह्यौ सुनाइ, धेनु बन चलौ लिवाइ,मेवा लीन्हौ मँगाइ, बिबिध-रस मिठाई ॥
जेंवत बलराम-स्याम, संतन के सुखद धाम,धेनु काज नहिं बिराम, जसुदा जल ल्याई । 
स्याम-राम मुख पखारि, ग्वाल-बाल दिए हँकारि,जमुना -तट मन बिचारि, गाइनि हँकराई ॥
सृंग-बेनु-नाद करत, मुरली मधु अधर धरत,जननी-मन हरत, ग्वाल गावत सुघराई ।
बृंदाबन तुरत जाइ, धेनु चरति तृन अघाइ, स्याम हरष पाइ, निरखि सूरज बलि जाई ॥

Tags: सूरदास

Post your comment
Name
Email
Comment
 

काव्य रचना

विविध