खास खबरें प्रत्याशी एवं मकान मालिक की सहमति से ही झंडे बैनर लगाये जायें, कानून सबके लिये समान सिंगापुर दौरे के दूसरे दिन पीएम मोदी ने आसियान बैठक लिया हिस्‍सा पाकिस्‍तान : 18 दिन से लापता पेशावर के एसपी का शव अफगानिस्‍तान में मिला महिला टी-20 वर्ल्ड कप : भारत का आज आयरलैंड से मुकाबला, सेमीफाइनल में जगह बनाने खेलेगा भारत अमित शाह का राहुल गांधी पर तंज, सिर्फ मोदी जी की बात कर अपना प्रचार कर रहे है या भाजपा का रणवीर की दुल्‍हन बनी दीपिका की फोटो हुई वायरल निफ्टी 10600 के करीब, सेंसेक्स 35200 के पार पीएम मोदी-राहुल गांधी 16 नवम्‍बर को मध्‍यप्रदेश के एक ही जिले करेगें रैलियां फडणवीस को मिली थोड़ी राहत, मराठा आरक्षण के लिए रास्‍ता साफ गोपाष्‍टमी : गाय की पूजा से प्रसन्‍न होते है सभी देवता, मिलती है सुख-समृद्धि

गोपाष्‍टमी : गाय की पूजा से प्रसन्‍न होते है सभी देवता, मिलती है सुख-समृद्धि

गोपाष्‍टमी : गाय की पूजा से प्रसन्‍न होते है सभी देवता, मिलती है सुख-समृद्धि

Post By : Dastak Admin on 15-Nov-2018 08:10:19

गोपाष्टमी, gopashtami


कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को गोपाष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस साल गोपाष्टमी 16 नवंबर को मनाई जाएगी। इस दिन गाय और गोविंद की पूजा-अर्चना करने से धन और सुख-समृद्धि में वृद्धि होगी। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने पहली बार गाय चराई थी। यशोदा मईया भगवान श्रीकृष्ण को प्रेमवश कभी गौ चारण के लिए नहीं जाने देती थीं। लेकिन एक दिन कन्हैया ने जिद कर गौ चारण के लिए जाने को कहा। तब यशोदा जी ने ऋषि शांडिल्य से कहकर मुहूर्त निकलवाया और पूजन के लिए अपने श्रीकृष्ण को गौ चारण के लिए भेजा। तभी से इस दिन गाय की पूजा की जाती है। मान्यता है कि गाय में 33 करोड़ देवताओं का वास होता है। इसलिए गौ पूजन से सभी देवता प्रसन्न होते हैं।

गोपाष्टमी
गाय का किया जाता है श्रृंगार 
ब्रह्म मुहूर्त में गाय और उसके बछड़े को नहलाकर तैयार करते हैं। उसका श्रृंगार किया जाता हैं, पैरों में घुंघरू बांधे जाते हैं, अन्य आभूषण पहनाएं जाते हैं।

 गौ माता के सींग पर चुनरी का पट्टा बांधते हैं। इसके बाद गौ माता की परिक्रमा कर उन्हें बाहर लेकर जाते हैं और कुछ दूर तक गायों के साथ चलते हैं।
गोपाष्टमी के दिन ग्वालों को दान करना चाहिए। गोपाष्टमी की शाम जब गाय घर लौटती हैं, तब फिर उनकी पूजा की जाती है। खासतौर पर इस दिन गाय को हरा चारा, हरा मटर एवं गुड़ खिलाया जाता है।
जिन श्रद्धालुओं के घरों में गाय नहीं हैं वे लोग गौशाला जाकर गाय की पूजा करते हैं। उन्हें गंगा जल, फूल चढ़ाते हैं, दिया जलाकर गुड़ खिलाते है।
गौशाला में खाना और अन्य वस्तु आदि दान की जाती हैं। ऐसी मान्यता है कि गोपाष्टमी के दिन गाय के नीचे से निकलने वालों को बड़ा पुण्य मिलता है। 
गोपाष्टमी के दिन गायों की पूजा करने वालों से भगवान कृष्ण प्रसन्न होते हैं । क्योंकि शास्त्रों के अनुसार गाय पूरे शरीर में सभी देवी देवताओं का वास माना जाता है।

ऐसी मान्यता हैं की गौ सेवा करने वाले मनुष्यों का जीवन धन धान्य और खुशियों से भर जाता हैं इसलिए गाय माता की पूजा व सेवा करनी ही चाहिए ।

Tags: गोपाष्टमी, gopashtami

Post your comment
Name
Email
Comment
 

धर्म

विविध