खास खबरें देर रात उज्जैन से गुजरे कालवी, करणी सेना ने किया स्वागत मध्‍यप्रदेश में आज सियासत के लिए तूफानी प्रचार, पीएम मोदी, अमित शाह, राहुल गांधी की अलग-अलग शहरों में होगी रैलियां मानव तस्‍करी की पीड़ा झेल चुके पीडि़तों को एपल देगा नौकरी महिला वर्ल्ड टी-20 : भारत ने आयरलैंड को हरा सेमीफाइनल में बनाई जगह कमलनाथ ने लिखी विकास के नाम चिट्ठी, पूछा 'तुम कहां हो ?' बिग बी अमिताभ बच्‍चन ने दी पोती आराध्‍या को जन्‍मदिन की बधाईयॉं सेंसेक्स 100 अंक मजबूत, निफ्टी 10640 के पास 'रात-दिन मोदी-मोदी, कांग्रेस और राहुल को हुआ मोदी फोबिया' - अमित शाह राजस्‍थान : कांग्रेस की पहली सूची से नाराज कांग्रेसियों ने राहुल गांधी के घर के बाहर जमाया ढेरा, पैसे लेकर टिकट बांटने का आरोप गोपाष्‍टमी : गाय की पूजा से प्रसन्‍न होते है सभी देवता, मिलती है सुख-समृद्धि

हर मुसीबतों का हल होता है

हर मुसीबतों का हल होता है

Post By : Dastak Admin on 25-Aug-2018 09:13:40

every problem has solution


एक बुढे पिता इस दुनिया से चल बसे, उन्होंने अपनी संपत्ति के रूप में अपने 3 बेटो के लिए 17 ऊंट छोड़ गये थे.
उनके बेटो ने उनकी वसीयत को खोला. उस पिता की वसीयत के अनुसार सबसे बड़े बेटे को 17 ऊँटो में से आधे दिए जायेंगे,मझले बेटे को इसका एक तिहाई (1/3) भाग दिया जायेंगा और सबसे छोटे बेटे को 1/9 भाग दिया जायेंगा.

17 ऊँटो को आधे में और 1/3 और 1/9 हिस्सों में बाटना असंभव था. इस वजह से तीनो बेटे एक दुसरे से लड़ने लगे. इसी वजह से तीनो बेटो ने किसी विद्वान इंसान के पास जाने का निर्णय लिया.

विद्वान इंसान धीरे से उनके पिता की वसीयत को सुन ही रहा था. तभी उस इंसान में अपना भी एक ऊंट उन 17 ऊँटो में मिला दिया. अब पुरे ऊँटो की संख्या 18 हो चुकी थी. 

और अब उन्होंने उस पिता की वसीयत को पढना शुरू किया. जिसमे 18 के आधे = 9 ऊंट बड़े बेटे को दिए गये, 18 के 1/3 = 6 ऊंट मझले बेटे को दिए गये और 18 के 1/9 = 2 ऊंट सबसे छोटे बेटे को दिए गये.

अब इन सभी को आपस में जोडीये : 9 + 6 + 2 = 17 और इस तरह एक ऊंट बच गया, जो उस विद्वान का ही था.

सीख—
समझौते का रवैया और मुसीबतों का हल उस 18 वे ऊंट में था जो की कॉमन ग्राउंड (Common Ground) था. इस बार यदि कोई व्यक्ति Common Ground धुंडने में सफल हो गया, तो उसकी पूरी मुसीबत ही समाप्त हो जाती है. कभी-कभी इसे ढूंडना मुश्किल हो सकता है लेकिन असंभव नही. इसके लिए हमें इस बात पर विश्वास करना होंगा की दुनिया में बड़ी से बड़ी मुसीबत का भी हल है. यदि हम यह सोचते है की मुसीबतों का कोई हल नही, तो हम कभी भी Common Grount तक नहीं पहोच सकते.

Tags: every problem has solution

Post your comment
Name
Email
Comment
 

किताबी दुनिया

विविध