खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

DAVV : 70 हजार विद्यार्थियों का रिजल्ट अटका, अब 7 दिन में देने का दावा

DAVV : 70 हजार विद्यार्थियों का रिजल्ट अटका, अब 7 दिन में देने का दावा

Post By : Dastak Admin on 11-Sep-2018 16:18:02

Result of 70 thousand,now claim

इंदौर। चार महीने पहले हुई बीए-बीकॉम और बीएससी की वार्षिक परीक्षा का रिजल्ट विश्वविद्यालय अब तक जारी नहीं कर पाया। इस लेटलतीफी से लगभग 70 हजार विद्यार्थी परेशान हैं। अब विश्वविद्यालय प्रशासन सात दिन में रिजल्ट देने का दावा कर रहा है।
पिछले साल उच्च शिक्षा विभाग के निर्देश पर यूजी कोर्स में वार्षिक परीक्षा प्रणाली लागू की गई। इनकी परीक्षाएं मई में करवाई गई थीं। रिजल्ट में देरी का मामला 30 अगस्त की कार्यपरिषद बैठक में सदस्य अलोक डावर ने उठाया था। उस दौरान कुलपति ने दस दिन में रिजल्ट देने का आश्वासन दिया था। इसके बाद कार्यपरिषद ने ओएमआर शीट वाली नई मूल्यांकन व्यवस्था को बेहतर करने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बना दी।
इसमें डॉ. विजय बाबू गुप्ता, डॉ. अशोक शर्मा और डॉ. एचएस अनीजवाल को रखा गया। हालांकि कमेटी ने भी अब तक एक बैठक नहीं बुलाई। सोमवार को फिर डावर ने कुलपति को पत्र लिखकर रिजल्ट की स्थिति के बारे में जानकारी मांगी है। परीक्षा नियंत्रक डॉ. अशेष तिवारी ने बताया कि 20 सितंबर तक सारे रिजल्ट जारी कर दिए जाएंगे।
नई मूल्यांकन व्यवस्था में आ रही दिक्कतों को लेकर कुलपति डॉ. नरेंद्र धाकड़ ने मंगलवार को बैठक बुलाई है। इसमें लीड कॉलेज के प्राचार्य, मूल्यांकन केंद्र प्रभारी, परीक्षा नियंत्रक, परीक्षा विभाग, गोपनीय विभाग के डिप्टी रजिस्ट्रार व कम्प्यूटर सेंटर प्रभारी शामिल होंगे।
ओएमआर शीट पर नंबर चढ़ाने की शुरू हुई नई व्यवस्था में कई मूल्यांकनकर्ताओं को जानकारी भरने में दिक्कतें आ रही है। इसके अलावा लीड कॉलेजों ने मूल्यांकनकर्ताओं को कॉपी जांचने का भुगतान नहीं होने की शिकायत विश्वविद्यालय में दर्ज करवाई है। यह मुद्दा वित्त नियंत्रक के सामने रखा जाएगा।

 

Tags: Result of 70 thousand,now claim

Post your comment
Name
Email
Comment
 

इंदौर

विविध