खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

शासन की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लेकर महिला तथा पुरूष हितग्राहियों में आत्मविश्वास लाया है- महामहिम राज्यपाल श्रीमती पटेल

शासन की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लेकर महिला तथा पुरूष हितग्राहियों में आत्मविश्वास लाया है- महामहिम राज्यपाल श्रीमती पटेल

Post By : Dastak Admin on 18-Sep-2018 22:12:20

governer anandi ben patel in mandu

 

धार | प्रदेश की महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल ने मंगलवार को धार जिले के ऐतिहासिक नगरी माण्डू के रूपायन कलादीर्घा में आयोजित बाग प्रिंट शिल्पकारों एवं स्वयं सहायता समूह के सदस्यों से संवाद कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि केन्द्र शासन तथा राज्स शासन द्वारा अनेक जनहितकारी योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। ग्रामीण महिलाएं तथा पुरूष इन योजनाओं का लाभ लेकर अपने जीवन स्तर को ऊचा उठाया है और उनमें आत्मविश्वास भी पैदा हुआ है। 
    श्रीमती पटेल ने कहा कि मैं तीसरी बार माण्डू आई हूं। यहॉं के स्मारकों को मैंने बारिकी से देखा है। जिनमें लगभग 800 साल पहले हमारे घरों, महलों में क्या-क्या सुविधाएं थी। और टेक्नोलोजी देखने को मिली है, उसी समय हमारे राजाओं ने पानी संग्रहण के लिए तालाब बनवाए। यहॉं की कला प्रसिद्ध है। शिल्पकारों को यहॉं बुलाए है। वनों से सामग्री लाकर उसका उपयोग करते है। अच्छे कपड़े बनाना चाहे बैटशिट, चद्दर, साड़ी, सलवार सुट जो कि अलग-अलग डिजाईन में वस्त्रों को प्रिंट करते है, वह आकर्षक, सुन्दर और देखने लायक होते है। यहॉं के शिल्पकार मुझे आमंत्रित करते है, तो मुझे बहुत खुशी होती है। ऐसे गांव, ऐसे परिवारों से मिलना मुझे बुहत अच्छा लगता है। नई पीढ़ी पढ़-लिख कर अच्छे पदों पर जाना चाहते है। जिससे हमारी कला धीरे-धीरे समाप्त हो जाएगी। मैं आपका इस बात के लिए धन्यवाद देती हूं कि आपने इस कला को पीढ़ी दर पीढ़ी जीवित रखा है। गुजरात में कच्छ में भी वैसे ही साडि़यां व कपडे बनाते है और अहमदाबाद में भी छिपा समुदाय है। लेकिन वे ज्यादातर ऐसे काम नही करते है। महिलाएं बहुत मेहनती होती है, वह अपने घर में भी पूरे काम करती है, इसके बाद भी सीखने के लिए समय निकालती है। पहले भारत में घुंघट प्रथा थी, अब समाज में बदलाव आ रहा है और महिलाएं घुंघट प्रथा छोड़ रही है। जिससे आर्थिक उन्नति हुई है।     

   उन्होने कहा कि पहले अंग्रेज शासन था, तब भारतवासियों की बहुत खराब स्थिति थी, उस दौरान पढ़ने नही जाते थे, अस्पताल भी नही थे। तब हमारे महात्मा गांधी, जवारलाल नेहरू, सरदार पटेल इन सब लोगों ने मिलकर तय किया, पहले तो रानीलक्ष्मी बाई ने आन्दोलन शुरू करवाया। यह लड़ाई 300 साल तक चलती रही। उसके बाद 1947 में हमको आजादी मिली। आजादी दिलाने का उद्देश्य हमे काम करने का मौका मिले जैसे बच्चों को पढ़ाया जा सके, कला को जीवित रख सके। पर्यटन का सेन्टर बने, तो लोगों को रोजगार मिलता है। 
    कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने कहा कि हमारे लिए यह शौभाग्य की बात है कि राज्यपाल जी ने माण्डू के स्मारकों को देखने के लिए और बाग प्रिंट के शिल्पकार है, उनसे मिलने के लिए तथा स्वयं सहायता समूहों की महिलाएं है, उनसे मिलने के लिए समय निकाला है। बाग प्रिंट एक ऐसी कला है, जो बाग में बगनी नदी के किनारे यह कला विकसित हुई और छिपा समुदाय के लोग मध्यप्रदेश में के बाहर भी भारत में प्रचार-प्रसार करने में सफल रहे है। श्री सिंह ने कहा कि इन समुदाय के लोगों को प्रशिक्षण की सुविधा दी गई है और नेशनल फेशन टेक्लनोलोजी दिल्ली ने 5 वर्षो का एक प्रोजेक्ट किया और बहुत सारे समूहों को आधुनिक ड्राईंग, डिजाईन, मार्केट्रिंग मे शिल्पकारों को काफी सहयोग दिया। निकट भविष्य में नाबार्ड एक अपनी योजना लेकर आ रहा है। इस क्षेत्र में काम करने वाले शिल्पों को आगे बढ़ाने का प्रयास किया जावेगा। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मालती-मोहन पटेल तथा विधायक धरमपुरी श्री कालुसिंह ठाकुर ने भी सम्बोधित किया। 
    श्रीमती पटेल ने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत बाग प्रिंट वनवासी स्वयं सहायता समूह ग्राम आगर, हाथकरघा एवं हस्तशिल्प वालीपुर, राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास, दीपज्योति हैण्डी क्रॉप्ट, चर्म शिल्प, चर्म परिसर दूधी-धामनोद द्वारा उत्पादों का अवलोकन किया। श्रीमती पटेल ने इस अवसर पर आदिवासी संस्कृति, चॉंदी के आभूषण, वेषभूषा का अवलोकन किया। श्रीमती कोशरे व मेना पटेल कागदीपुरा ने आदिवासी संस्कृति के संबंध में महामहिम राज्यपाल को विस्तार से अवगत कराया। महामहिम राज्यपाल में सिर पर बोलनी भी उठाई और चॉंदी के आभूषण भी पहनकर देखे। श्रीमती पटेल ने रूपायन कलादीर्घा का भी अवलोकन किया।
    इस कार्यक्रम में स्वयं सहायता समूहों की सदस्यों ने अपनी गतिविधियों की विस्तार से जानकारी दी और स्वयं सहायता समूह से जुड़ने के बाद जो बदलाव आया है, उसके संबंध में विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती अरूण बोडा ने किया। 
    इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री बीरेन्द्र कुमार सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री आर.के. चौधरी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री रूपेश कुमार द्विवेदी, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री वीरेन्द्र कटारे, डिप्टी कलेक्टर सुश्री दिव्या पटेल सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी व गणमान्य नागरिक, स्वयं सहायता समूह के सदस्यगण उपस्थित थे।

Tags: governer anandi ben patel in mandu

Post your comment
Name
Email
Comment
 

धार

विविध