खास खबरें पिछड़ा वर्ग पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च पीएम मोदी आज वाराणसी में करेंगे 15वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन का उद्घाटन पाकिस्‍तान : तेल टैंकर और बस में भीषण टक्‍कर में हुई 26 लोगों की मौत, 16 घायल कल नेपियर में खेला जाएगा भारत-न्यूजीलैंड के बीच पहला वनडे मैच 2019 में फिर सत्‍ता में आएंगी भाजपा : राजनाथ सिंह ड्राइवर कर रहा था निजी जानकरियां लीक, मलाइका ने नौकरी से निकाला सेंसेक्स 140 अंक टूटा, निफ्टी 10915 के आसपास मध्‍यप्रदेश में फंड की कमी से नहीं मिला लाखों कर्मचारियों को महंगाई भत्‍ता दिल्ली-NCR में बिन मौसम बारिश के साथ पड़े ओले, पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी शुरू हुआ पवित्र माघ का महीना, इस तरह करें अपनी मनोकामना पूरी

छात्रों को ड्रेस मुहैया कराने में सहायक बन रहे हैं स्वसहायता समूह

छात्रों को ड्रेस मुहैया कराने में सहायक बन रहे हैं स्वसहायता समूह

Post By : Dastak Admin on 18-Jan-2019 20:26:25

 स्वसहायता समूह

 

श्योपुर | राज्य सरकार द्वारा आजीविका मिशन के माध्यम से स्वसहायता समूहों के द्वारा तैयार कराकर जिले के विद्यालयों के छात्रों को उपलब्ध कराई जा रहे गणवेश से छात्र विद्यालय आने के लिए आकर्शित हो रहे हैं। श्योपुर विकासखण्ड क्षेत्र के शा. माध्यमिक विद्यालय सेवापुरा के छात्र समूह में ड्रेस पहनकर प्रशन्नचित्त मुद्रा में शिक्षा ग्रहण के लिए विद्यालय निरंतर आ रहे हैं। 
   श्योपुर जिला मुख्यालस स्थित मप्र डे आजीविका मिशन के द्वारा विकासखण्ड श्योपुर क्षेत्र में गठित किए गए 170 समूहों को 777 लाख रूपए की राशि प्रदान की गई है। इस राशि से स्वसहायता समूह तरक्की की राह पकड़ रहे हैं। यह राशि समूहों को सेंट्रल मप्र ग्रामीण बैंक बड़ौदा द्वारा 79 समूहों को 362 लाख, पंजाब नेशनल बैंक एवं सेंट्रल मप्र ग्रामीण बैंक सलापुरा के माध्यम से क्रमशः 21-21 समूहों को क्रमशः 105-105 लाख एवं यूको बैंक प्रेमसर द्वारा 27 समूहों को 135 लाख, सेंट्रल मप्र ग्रामीण बैंक सोईंकला के द्वारा 12 समूहों को 60 लाख एवं यूकों बैंक ढोढर के माध्यम से 10 समूहों को 10 लाख रूपए प्रदान की गई है। इस राशि में से स्वसहायता समूह अपने अधीन अन्य महिलाओं और पुरूषों के माध्यम से स्कूली ड्रेस के लिए सिलाई कार्य में रोजगार दे रहे हैं। इससे समूह के अधीन काम कर रही महिलाओं, कारीगरों की आर्थिक स्थिति में सुधार आ रहा है।   

   अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती कविता मीणा, सीईओ जिला पंचायत श्री राजेश शुक्ल, अपर कलेक्टर श्री राजेन्द्र राय द्वारा मप्र डे आजीविका मिशन कार्यालय श्योपुर के माध्यम से स्वसहायता समूहों द्वारा तैयार की गई ड्रेस आदि सामग्रियों का अवलोकन कर व्यवस्थाओं का गत दिवस जायजा लिया। साथ ही समूहों द्वारा स्कूली बच्चों को उपलब्ध कराई जा चुकी 80 प्रतिशत ड्रेसों की जानकारी ली। इसी प्रकार 20 प्रतिशत जो छात्र ड्रेस लेने के प्रतीक्षारत है। उनके लिए तैयार की जा रही ड्रेसों की व्यवस्थाएं देखी। साथ ही जिला परियोजना समन्वयक आजीविका मिशन श्री सोहन कृष्ण मुदगल को शेष ड्रेसे शीघ्र छात्रों को प्रदान करने के निर्देश दिए। 
   इस दौरान स्वसहायता समूहों के द्वारा महिला सशक्तिकरण की दिशा में किए गए प्रयासों की जानकारी जनप्रतिनिधि एवं अधिकारियों ने प्राप्त की। इसी प्रकार स्कूली ड्रेस बनाकर तरक्की की राह पकड़ रहे स्वसहायता समूहों के पदाधिकारियों से चर्चा कर, उनके द्वारा स्वावलंभन की दिशा में किए जा रहे प्रयासों की हकीकत जानी। जिला परियोजना समन्वयक श्री सोहनकृष्ण मुदगल ने बताया कि कलेक्टर श्री बसंत कुर्रे एवं प्रशासनिक अधिकारियों के मार्गदर्शन में आजीविका मिशन के माध्यम से 5 हजार से अधिक स्वसहायता समूहों को जोड़ा जा चुका है। साथ ही 79 स्वसहायता समूहों को ऋण उपलब्ध कराया गया है। इसी प्रकार 4 हजार 530 स्वसहायता समूहों को जोड़ा जा चुका है। इन स्वसहायता समूहों में से 1900 महिलाएं सिलाई कर ड्रेस बनाने में सक्षम बन रही है। 
   विकासखण्ड श्योपुर क्षेत्र के शा. माध्यमिक विद्यालय सेवापुर के छात्र विमलेश, राजू, सोहन, पूजा, प्रिया, घनश्यामा, सलमान ने बताया कि मप्र सरकार द्वारा जिला प्रशासन के माध्यम से आजीविका मिशन के अंतर्गत कार्य कर रहे स्वसहायता समूहों द्वारा सभी छात्रों को एक जैसे कलर में गणवेश उपलब्ध कराया गया है। जिसको पहनकर हम प्रतिदिन विद्यालय आने में अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ा रहे हैं। यह सब करिश्मा मप्र सरकार की ही देन है।

Tags: स्वसहायता समूह

Post your comment
Name
Email
Comment
 

श्योपुर

विविध