खास खबरें ग्रुप डिस्कशन और सेमिनार से बता रहे भोजन में सब्जियां लें, जंकफूड न खाए 2025 तक इंसानों से ज्यादा काम करेंगी मशीनें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम माता-पिता की इस लत के खिलाफ बच्‍चों ने सड़कों पर किया विरोध प्रदर्शन क्रिकेट टीम कप्तान विराट कोहली और वेटलिफ्टर मीराबाई चानू को राजीव गांधी खेल रत्न देने की सिफारिश अजय माकन ने दिया दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा कैंसर के मुश्किल जंग जीतने के बाद 46 की उम्र में लीजा बनी जुड़वा बेटियों की मॉं सेंसेक्स 37650 के करीब, निफ्टी 11400 के ऊपर कर्तव्यों का निर्वहन सिखाते हैं विश्वविद्यालय : राज्यपाल श्रीमती पटेल रेवाड़ी गैंगरेप : मुख्‍य आरोपी निशु पहले भी कर चुका है ऐसी वारदात चौथे दिन उत्तम शौच धर्म की पूजा के साथ, अपनी वाणी को अपने मन को अपने कर्मों को उत्तम बनाना ही शौच धर्म है

बीएलओ घर-घर बाटेंगे पर्ची, राजनैतिक दलों को बूथ बनाने की अनुमति नहीं होगी (विधानसभा निर्वाचन-2018)

बीएलओ घर-घर बाटेंगे पर्ची, राजनैतिक दलों को बूथ बनाने की अनुमति नहीं होगी (विधानसभा निर्वाचन-2018)

Post By : Dastak Admin on 18-Sep-2018 21:55:29

nirvachan meeting

बीएलओ घर-घर बाटेंगे पर्ची, राजनैतिक दलों को बूथ बनाने की अनुमति नहीं होगी (विधानसभा निर्वाचन-2018) 
स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को दी गई नवाचारों एवं नए निर्देशों की विस्तारपूर्वक जानकारी 
ग्वालियर | इस बार के विधानसभा चुनाव में राजनैतिक दलों को मतदान केन्द्रों के बाहर बूथ स्थापित करने की अनुमति नहीं होगी। बीएलओ (बूथ लेवल अधिकारी) द्वारा घर-घर जाकर मतदाताओं को मतदान पर्ची वितरित की जायेंगीं। साथ ही बीएलओ मतदान केन्द्र के बाहर बैठेंगे और मतदाताओं को पर्ची मुहैया करायेंगे। बीएलओ के साथ राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि भी बैठक सकेंगे। यह जानकारी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री अशोक कुमार वर्मा ने स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को दी। उन्होंने कहा मतदाताओं के सहयोग के लिए निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतदाता सुविधा केन्द्र बनाए जायेंगे। 
    विधानसभा आम निर्वाचन-2018 में होने जा रहे नवाचारों, मतदाता सूचियों का पुनरीक्षण, मतदान केन्द्रों में परिवर्तन तथा भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विधानसभा चुनाव के संबंध में जारी दिशा-निर्देशों के संबंध में बैठक में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई। 
    राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को बताया गया कि मतदाता सूचियों के संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान लगभग एक लाख दावे-आपत्तियां प्राप्त हुईं थी, इनमें से अधिकांश का निराकरण कर दिया गया है। शेष बचीं आपत्तियों का निराकरण भी जल्द ही हो जायेगा। कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि मतदाता सूचियों में विलोपित एवं निरसन मतदाता ऑनलाइन भी देखे जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि जिले में चले मतदाता जागरूकता अभियान के प्रभावी परिणाम सामने आए हैं। जिले में महिला एवं युवा मतदाताओं की संख्या बढ़ी है। खासकर विधानसभा क्षेत्र - 14 ग्वालियर ग्रामीण में महिला मतदाताओं की संख्या में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है, जिससे महिला-पुरूष मतदाताओं के अनुपात की विषमता कम हुई है। 
    सोमवार की सायंकाल कलेक्ट्रेट के सभागार में आयोजित हुई स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में अपर कलेक्टर श्री दिनेश श्रीवास्तव, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री शिवम वर्मा व उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री राघवेन्द्र पाण्डेय सहित अन्य संबंधित अधिकारी तथा सर्वश्री भारत सिंह कुशवाह, अरूण कुलश्रेष्ठ, धर्मेन्द्र सिंह, अखिलेश यादव व दिनेश जैन समेत मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के अन्य सदस्यगण मौजूद थे। 
केन्टोनमेंट क्षेत्र के तीन मतदान केन्द्र कम हुए
    स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में जानकारी दी गई कि विधानसभा क्षेत्र - 14 ग्वालियर ग्रामीण के अंतर्गत मुरार केन्टोनमेंट क्षेत्र के मतदान केन्द्र क्र.-120, 121, 122 व 123 में कुल 501 मतदाता रह गए हैं। आर्मी की यूनिट स्थानांतरित हो जाने से यह स्थिति निर्मित हुई है। इसलिए यहाँ के मतदान केन्द्र क्र.-121, 122 व 123 समाप्त कर दिए गए हैं। मतदान केन्द्र क्र.-120 पर शेष बचे 501 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग कर सकेंगे। 
    विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र - 17 ग्वालियर दक्षिण के चार मतदान केन्द्रों का स्थान परिवर्तन किया गया है। मतदाताओं की सुविधाओं को ध्यान में रखकर इन मतदान केन्द्रों  के स्थान बदले गए हैं। 
ऑनलाइन जायेंगे डाक मत पत्र
    डाक मत पत्र जल्द से जल्द संबंधित मतदाता को मिल जाएं और मत अंकित होने के बाद समय से वापस आ जाएं, इस बात को ध्यान में रखकर निर्वाचन आयोग द्वारा इस बार विशेष व्यवस्था की गई है। डाक मत पत्र इस बार ऑनलाइन भेजे जायेंगे और उधर से बंद लिफाफे में वापस प्राप्त किए जायेंगे। 
    स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में बताया गया कि जिले में 25 पिंक मतदान केन्द्र बनाए जायेंगे। हर विधानसभा क्षेत्र में लगभग 4 - 4 मतदान केन्द्र बनेंगे। इन मतदान केन्द्रों पर सम्पूर्ण मतदान प्रक्रिया को महिला शासकीय सेवक संपादित करायेंगीं। इसी तरह हर विधानसभा क्षेत्र में एक - एक ऐसा मतदान केन्द्र स्थापित किया जायेगा, जिसकी मतदान प्रक्रिया दिव्यांग शासकीय सेवकों का दल सम्पन्न करायेगा। 

 

Tags: nirvachan meeting

Post your comment
Name
Email
Comment
 

ग्वालियर

विविध