खास खबरें जैन कुल में जन्म लेने से ही जैनी नहीं बन सकते, जैनत्व जीवन में आना चाहिये स्‍वय के अध्‍यात्मिक जीवन पर पीएम मोदी ने किया बड़ा खुलासा-5 दिन जंगल में गुजारते थे महीने भर से चल रहे शटडाउन को बंद करने आज अमेरिकन सीनेट में होगी वोटिंग पाक कप्‍तान ने अफ्रीकी खिलाड़ी के खिलाफ की नस्‍लीय टिप्‍पणी पर मांगी माफी कांग्रेस का बना प्रधानमंत्री तो 'आप' करेगी समर्थन कंगना रनौत ने किया इंकार, नहीं मांगेगी करणी सेना से माफी सेंसेक्स में निचले स्तर से रिकवरी, निफ्टी 10830 के आसपास आगामी खेलो इंडिया यूथ गेम्स के मैडल में हो चार गुना बढ़ोतरी परिजनों मान रहे थे आत्‍महत्‍या, 4 साल की बेटी खोला पिता की हत्‍या का राज संकष्टी चतुर्थी पर इस विधि से करें श्री गणेश की पूजा, जानें कथा...

जिला पंचायत सभागार में लगा आयुक्त नि:शक्त जन का चलंत न्यायालय

जिला पंचायत सभागार में लगा आयुक्त नि:शक्त जन का चलंत न्यायालय

Post By : Dastak Admin on 23-Jan-2019 22:21:01

आयुक्त नि:शक्त जन  चलंत न्यायालय


आयुक्त नि:शक्तजन श्री संदीप रजक ने सुनी दिव्यांगजनों की समस्याएं 
होशंगाबाद | म.प्र. शासन के निर्देशानुसार दिव्यांग जनों की समस्याओं के निराकरण के लिए आयुक्त नि:शक्तजन का चलंत न्यायालय प्रदेश के सभी जिलों में पहुंचकर नि:शक्त जनों की समस्याएं सुनकर उनका निराकरण कर रहा है। इसी क्रम में आज जिला पंचायत सभागार में आयुक्त नि:शक्तजन का चलंत न्यायालय पहुंचा एवं आयुक्त श्री संदीप रजक द्वारा 98 प्रकरणों में सुनवाई की गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार 98 पंजीकृत प्रकरणों में 10 कृत्रिम सहायक उपकरण, 7 शिक्षा, 2 बाधा रहित वातावरण एवं भेदभाव, 16 पेंशन, 39 नि:शक्तता प्रमाण पत्र, 11 रोजगार तथा 13 प्रकरण अन्य विषयों से संबंधित थे। न्यायालय का शुभारंभ होशंगाबाद विधायक श्री सीताशरण शर्मा, आयुक्त श्री रजक एवं कलेक्टर श्री आशीष सक्सेना द्वारा किया गया। इस अवसर पर अतिथियों द्वारा उडीसा में आयोजित राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में विजेता रहीं जूनियर रेडक्रास टीम के बच्चों को सम्मानित किया गया। 
    न्यायालय में आयुक्त श्री रजक एवं सहायक संचालक श्री राम विलास सेमिल द्वारा दिव्यांग जनों की समस्याओं को सुनकर उन पर सुनवाई की गई। आयुक्त द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया गया कि विकलांगता के प्रमाण पत्र बनाने के लिए आने वाले दिव्यांगजनों को मौके पर ही प्रमाण पत्र बनाकर दिए जाए। बताया गया कि एमडी मेडीसिन चिकित्सक के अभाव मे कुछ श्रेणियों के दिव्यांगजनों के प्रमाण पत्र नहीं बन पा रहें है। श्री रजक ने भोपाल से एमडी मेडीसिन चिकित्सक को बुलवाकर ऐसे दिव्यांगजनों के लिए विशेष कैम्प लगाकर प्रमाण पत्र बनाने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि प्रत्येक सप्ताह मेडीकल बोर्ड में भी एमडी मेडीसिन चिकित्सक को अवश्य बुलाया जाए। न्यायालय में पहुंचे ग्राम हिरनखेडा के सतीश को मौके पर ही व्हील चेयर प्रदान की गई। इटारसी से आए अवनेश कुमार भैंसारे ने बताया कि उन्हे दिव्यांग पेंशन प्राप्त नहीं हुई है। आयुक्त ने न्यायालय में उपस्थित नगर पालिका इटारसी की प्रतिनिधि को आवेदक के दस्तावेजों के आधार पर शीघ्र पेंशन संबंधित कार्यवाही करने के निर्देश दिए। न्यायालय में संकल्प मूक बधिर विद्यालय के छात्र अनुराग की माता अपने बेटे को दिव्यांग पेंशन न मिलने की शिकायत लेकर पहुंची। इस प्रकरण में विद्यालय के प्रतिनिधि ने बताया कि अनुराग ने इसी वर्ष उनके विद्यालय में दाखिला लिया है तथा पेंशन से संबंधित आवेदन कर दिया गया है। आयुक्त श्री रजक ने अनुराग की माता को आश्वस्त किया कि अब उनके बेटे को शासन के नियमानुसार पेंशन मिलेगी। न्यायालय में विशेष मेडीकल बोर्ड द्वारा 17 व्यक्तियों के नि:शक्तता प्रमाण पत्र बनाए गए।
    इस अवसर पर उप संचालक सामाजिक न्याय श्रीमती प्रमिला वाईकर, नगरीय निकायों एवं जनपद पंचायतों के संबंधित अधिकारी तथा विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहें।

Tags: आयुक्त नि:शक्त जन चलंत न्यायालय

Post your comment
Name
Email
Comment
 

होशंगाबाद

विविध