खास खबरें पिछड़ा वर्ग पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च पीएम मोदी आज वाराणसी में करेंगे 15वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन का उद्घाटन पाकिस्‍तान : तेल टैंकर और बस में भीषण टक्‍कर में हुई 26 लोगों की मौत, 16 घायल कल नेपियर में खेला जाएगा भारत-न्यूजीलैंड के बीच पहला वनडे मैच 2019 में फिर सत्‍ता में आएंगी भाजपा : राजनाथ सिंह मणिकर्णिका विवाद : करणी सेना ने दी फिर कंगना को धमकी- 'महाराष्‍ट्र में चलना-फिरना दूभर कर देंगे' सेंसेक्स 140 अंक टूटा, निफ्टी 10915 के आसपास मध्‍यप्रदेश में फंड की कमी से नहीं मिला लाखों कर्मचारियों को महंगाई भत्‍ता दिल्ली-NCR में बिन मौसम बारिश के साथ पड़े ओले, पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी शुरू हुआ पवित्र माघ का महीना, इस तरह करें अपनी मनोकामना पूरी

मध्‍यप्रदेश में फंड की कमी से नहीं मिला लाखों कर्मचारियों को महंगाई भत्‍ता

मध्‍यप्रदेश में फंड की कमी से नहीं मिला लाखों कर्मचारियों को महंगाई भत्‍ता

Post By : Dastak Admin on 22-Jan-2019 09:07:12

govt has no funds for dearness-allowance


भोपाल। फंड की कमी ने मध्यप्रदेश के लाखों कर्मचारियों का 2018 की दूसरी छमाही का बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता (डीए) रोक दिया है। राज्य सरकार के लाखों कर्मचारी लगातार दो प्रतिशत बढ़े हुए महंगाई भत्ते की मांग कर रहे हैं, लेकिन किसानों की कर्जमाफी में जुटी सरकार के पास फिलहाल पैसा नहीं है। प्रदेश के करीब साढ़े चार लाख कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 7 से 9 प्रतिशत करने के लिए राज्य सरकार को करीब 500 करोड़ रुपए की जरुरत होगी।

भारत सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों का डीए जुलाई में 7 से बढ़ाकर 9 प्रतिशत कर दिया था। आमतौर पर राज्य सरकार भी भारत सरकार की घोषणा के बाद केंद्रीय कर्मचारियों के बराबर महंगाई भत्ता देती है। इस बार ऐसा नहीं हुआ। एक जुलाई 2018 से अब तक राज्य के कर्मचारियों को सात प्रतिशत डीए ही मिल रहा है। कई कर्मचारी संगठन बढ़ा हुआ डीए देने की मांग वित्त मंत्री से कर चुके हैं, लेकिन फिलहाल राज्य सरकार के पास पैसे का संकट है। कर्मचारी संगठनों में भी इसे लेकर नाराजगी बढ़ती जा रही है। 

कर्मचारियों को देना है एरियर
राज्य सरकार को कर्मचारियों को बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता एरियर के रूप में देना होगा। महंगाई भत्ता बढ़ाने का फैसला कैबिनेट से होगा। सूत्रों के मुताबिक वित्त विभाग ने तैयारी तो कर रखी है, लेकिन बजट की कमी से इसे रोक कर रखा है।

बढ़ता जाएगा बोझ 
राज्य सरकार डीए बढ़ाकर देने में जितनी देरी करेगी, उसके खजाने पर आने वाला एकमुश्त बोझ बढ़ता जाएगा। लोकसभा चुनाव की घोषणा से पहले केंद्र सरकार केंद्रीय कर्मचारियों का डीए 1 जनवरी 2019 से फिर बढ़ा सकती है। केंद्र घोषणा करेगा तो राज्य को उतना ही डीए बढ़ाना पढ़ेगा। ऐसे में राज्य सरकार पर फिर बोझ बढ़ेगा।

कई विभागों के पास नहीं पहुंचा बजट
सूत्रों के मुताबिक सप्लीमेंट्री बजट विधानसभा से पास तो हो गया, लेकिन कई विभागों के पास अब तक बजट नहीं पहुंचा है। बताया जाता है कि बजट संशोधन बिल पर राज्यपाल के दस्तखत नहीं होने की वजह से बजट विभागों को आवंटित नहीं किया गया है। हालांकि इसके पीछे पैसों की कमी भी एक कारण है। सरकार ने विधानसभा में 22 हजार करोड़ रुपए का अनुपूरक बजट पेश किया है।

Tags: govt has no funds for dearness-allowance

Post your comment
Name
Email
Comment
 

मध्य प्रदेश

विविध