खास खबरें सांप्रदायिक सौहार्द कायम करने की दिशा में शांति समिति सदस्यों ने पेश की एक अच्छी पहल सीटों के बंटवारे को लेकर अमित शाह से मिले नीतीश खाने से डर रहे है लोग, फलों में निकली रही है सुईयॉं एशिया कप : भारत ने पाकिस्‍तान को मात, 8 विकेट से रौंदा भोपाल में भाजपा कार्यकर्ता के महाकुंभ में आएंगे पीएम मोदी बेटी पूजा-आलिया के साथ महेश भट्ट फिर से बनाएंगे फिल्‍म 'सड़क' अब नौकरी जाने पर सरकार देगी पैसा, सीधे आऐगा आपके बैंक खाते में धान के समर्थन मूल्य पर इस वर्ष भी दिया जायेगा बोनस : मुख्यमंत्री श्री चौहान यूपी में दिमागी बुखार ने ली अब 71 जानें क्‍यों मनाया जाता है मोहर्रम, रमजान के बाद दूसरा सबसे पाक महीना

कलेक्टर ने किया जिला चिकित्सालय का आकस्मिक निरीक्षण

कलेक्टर ने किया जिला चिकित्सालय का आकस्मिक निरीक्षण

Post By : Dastak Admin on 19-Sep-2018 22:23:19

collector inspection


स्वास्थ्य एवं उपचार सेवाओं और सुविधाओं का लिया जायजा 
कटनी | कलेक्टर केवीएस चौधरी ने बुधवार को जिला चिकित्सालय कटनी का आकस्मिक निरीक्षण कर मरीजों को दी जाने वाली उपचार सेवाओं और स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा लिया। इस दौरान सिविल सर्जन डॉ. एस.के. शर्मा भी उपस्थित थे।
   कलेक्टर श्री चौधरी ने अस्पताल पहुंचकर ओपीडी के पंजीयन कक्ष और चिकित्सक कक्ष एवं निःशुल्क दवा वितरण काउंटर का निरीक्षण किया। कलेक्टर ने सिविल सर्जन को निर्देशित किया कि ओपीडी के बरामदे में ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर्स के नाम ड्यूटी चार्ट बोर्ड लगाकर प्रदर्शित करें। ताकि मरीज जान सकें कि किस डॉक्टर की ओपीडी में कब तक ड्यूटी है और वे अपना स्वास्थ्य परीक्षण सुगमता से करा सकें। कलेक्टर ने विकलांग पुर्नवास केन्द्र द्वारा संचालित दिव्यांगजनों को मेडिकल सर्टिफिकेट जारी करने बनाये गये परीक्षण कक्ष का निरीक्षण किया। यहां कक्ष के प्रशासनिक अधिकारी वीरेन्द्र पाटिल के अनुपस्थित पाये जाने और पिछले डेढ़ माह से ड्यूटी पर अनुपस्थित रहने की शिकायत पर उप संचालक सामाजिक न्याय को कार्यवाही करने के निद्रेश दिये। मेडिकल बोर्ड के प्रमाण पत्र तैयार करने संबंधी प्रकोष्ठ में कलेक्टर को बताया गया कि जिले में 12 हजार 762 दिव्यांगजनों के यूडीआईडी कार्ड जनरेट किये गये हैं। जिनका शत्-प्रतिशत वितरण नहीं हुआ है। कलेक्टर ने शेष बचे यूडीआईडी कार्ड को जनरेट कर ग्राम पंचायत के माध्यम से वितरित करने के निर्देश दिये। नेत्र रोग कक्ष के निरीक्षण के दौरान बताया गया कि प्रतिमाह औसत 15 मरीजों के नेत्र ऑपरेशन किये जाते हैं। जबकि प्रतिदिन की ओपीडी में 50-60 मरीजों की है। टीकाकरण कक्ष के दौरान कलेक्टर ने कोल्ड चैन और पेन्टावैलेण्ट तथा हेपेटाईटिस बी के टीके चैक किये। पैथालॉजी के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने रिपोर्ट ऑनलाईन जनरेट करने के निर्देश दिये। ताकि रिकॉर्ड सुरक्षित रखे जा सकें।
   सोनोग्राफी सेन्टर के निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने मरीजों से बातचीत की। इस मौके पर बताया गया कि सोनोग्राफी के प्रभारी डॉक्टर रेडियोलॉजिस्ट डॉ. आर.के. आठ्या 16 मरीजों का सोनोग्राफी कर कोर्ट के काम से चले गये हैं। सोनोग्राफी सेन्टर के बाहर बैठी महिला मरीजों की समस्या सुनकर कलेक्टर ने रेडियोलॉजिस्ट डॉ. आठ्या को पहले अस्पताल का काम खत्म कर दोपहर बाद अन्य कार्यों में जाने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने एचआईवी मरीजों के परामर्श हेतु स्थापित काउंसलिंग सेन्टर का भी निरीक्षण किया। उन्होने पैथालॉजी, अस्थि रोग विशेषज्ञ कक्ष, शिशु रोग विशेषज्ञ कक्ष, रैन बसेरा, डायलेसिस कक्ष, रसोई और भण्डार कक्ष व आयुष्मान मित्र कक्ष का भी निरीक्षण किया।
   कलेक्टर ने मैटरनिटी वॉर्ड और पीएनसी कक्ष का भी जायजा अपने निरीक्षण में लिया। उन्होने प्रसूता माताओं से कहा कि अस्पताल में भर्ती होते समय ही मजदूर पंजीयन के संबल कार्ड, आधार कार्ड, बैंक खाते आदि की जानकारी जमा कराई जाये। ताकि अस्पताल से डिस्चार्ज होते समय ही प्रसूति योजना के तहत दी जाने वाली राशि खाते जमा की जा सके।

Tags: collector inspection

Post your comment
Name
Email
Comment
 

कटनी

विविध