खास खबरें महर्षि सान्दीपनि वेदविद्या प्रतिष्ठान द्वारा वैदिक कक्षाओं का शुभारम्भ वंदे भारत एक्‍सप्रेस की हुई शुरूआत, दो हफ्तों की टिकट हुई पूरी अमेरिकी NSA ने अजीत डोभाल को किया फोन, कहा- भारत को आत्मरक्षा का अधिकार पीवी सिंधू दो शानदार प्रदर्शन के साथ सेमीफाइनल में पुलवामा हमले पर अपने बयान को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू हुए ट्रोल पुलवामा हमले टी-सीरीज ने अपने चैनल से हटाये पाकिस्‍तानी सिंगर्स के गाने पीएम मोदी ने दिखाई 'वंदे भारत एक्‍सप्रेस' को हरी झण्‍डी, पहली यात्रा के लिए बिक गई सारी टिकट प्रदेश में सूचना प्रौद्योगिकी संचालनालय का गठन होगा कश्‍मीर के पुलवामा में अब तक का सबसे दिल दहला देने वाला आतंकी हमला, टुकड़े बन फैले सैनिकों के शव इस तरह करें जया एकादशी पर पूजन-विधि

बाल गृह एवं गौधूलि वृद्धाश्रम में कानूनी साक्षरता एवं जागरूकता शिविर संपन्न

बाल गृह एवं गौधूलि वृद्धाश्रम में कानूनी साक्षरता एवं जागरूकता शिविर संपन्न

Post By : Dastak Admin on 15-Feb-2019 23:12:13

vidhik saksharta shivir

 

छिन्दवाड़ा | जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री बी.एस.भदौरिया के निर्देशानुसार आज बाल गृह चन्दनगांव एवं गौधूलि वृद्धाश्रम छिन्दवाड़ा में कानूनी साक्षरता एवं जागरूकता शिविर संपन्न हुआ।   

    जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं अपर जिला जज श्री विजय सिंह कावछा ने बाल गृह चन्दनगांव में उपस्थित बच्चों को म.प्र.अपराध पीड़ित प्रतिकर योजना की जानकारी दी। जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री सोमनाथ राय द्वारा नालसा- बालकों के लिए मैत्रीपूर्ण विधिक सेवायें एवं उनके संरक्षण के लिए विधिक सेवा योजना 2015 के साथ ही जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अध्यक्षता में संचालित बाल सुरक्षा ईकाई की जानकारी दी। इस अवसर पर जनमंगल संस्थान के प्रमुख श्री महेन्द्र खरे, चाईल्ड लाईन की को-ऑर्डिनेटर श्रीमती वैशाली डेहरिया व स्टॉफ के सदस्य एवं बच्चे उपस्थित थे।

      इसी प्रकार गौधूलि वृद्धाश्रम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं अपर जिला जज श्री कावछा और अपर जिला न्यायाधीश श्री आर.के.डेहरिया द्वारा वृद्धजनों के कक्ष में जाकर उनसे चर्चा की गई और उनकी समस्याओं की जानकारी ली गई। साथ ही उन्हें नालसा-वरिष्ठ नागरिकों के लिए विधिक सेवा योजना 2016 की जानकारी देते हुये निःशुल्क अधिवक्ता योजना के बारे में बताया गया। वरिष्ठजनों को माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिकों का भरण-पोषण अधिनियम के अन्तर्गत कार्यवाही की प्रक्रिया बताई गई। इस अधिनियम के अंतर्गत वृद्धजनों को कार्यवाही करवाने के लिये किसी अधिवक्ता की जरूरत नहीं होती, उन्हें सिर्फ एक आवेदन एस.डी.एम. को देना होता है। वृद्धजनों को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित पीड़ित प्रतिकर योजना और क्षतिपूर्ति भुगतान की प्रक्रिया बताई गई तथा आगामी माह में होने वाली नेशनल लोक अदालत के बारे में जानकारी देने के साथ ही उपस्थित ग्रामीणों को अपराध पीड़ित प्रतिकर योजना के बारे में बताया गया।

      इस शिविर में जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री राय द्वारा आगामी 9 मार्च  को आयोजित नेशनल लोक अदालत में अधिक से अधिक प्रकरणों का निराकरण कराये जाने का अनुरोध किया गया और विभिन्न योजनाओं के पम्पलेट्स भी वितरित किये गये।

Tags: vidhik saksharta shivir

Post your comment
Name
Email
Comment
 

छिंदवाड़ा

विविध